भोजपत्र वशीकरण सिद्धि

भारतीय धार्मिक तंत्र मंत्र साधनाओं में  भोजपत्र का उल्लेख मिलता है  तथा इस पद भोज पत्रों में ही तंत्र विद्या एवं मंत्र आदि का  चित्रण मिला  और इसके द्वारा ही  पूर्ण रूप से मंत्रों की व्याख्या की गई भोजपत्र  से वशीकरण अत्यंत प्रभावशाली होता है एवं इसके टोटके करने से सदैव कार्यों की पूर्ति होती है|

भोजपत्र वशीकरण सिद्धि
भोजपत्र वशीकरण सिद्धि

भोजपत्र वशीकरण मंत्र-

ॐ नमहः सर्व लोकः वशं करायः कुरु कुरु स्वाहः

विधि – किसी पुष्य नक्षत्र में एक लाख बार मंत्र को जप कर एवं भोजपत्र में लिखकर यदि आप अपने पर्स में या फिर हाथ में बांध लेते हैं तो आपके अंदर एक सम्मोहन शक्ति उत्पन्न हो जाती है जिससे आप किसी को भी सम्मोहित कर सकते हैं एवं अपने कार्यों की पूर्ति उसके द्वारा करा सकते हैं ।

भोजपत्र से  पत्नी वशीकरण –

यदि आपकी पत्नी  आप से प्रेम नहीं करती है  तो अपनी पत्नी को  अपने वश में करने के लिए स्नान कर स्वच्छ किसी रविवार की रात्रि को आसन लगा कर बैठ जाए और भोजपत्र में  मंत्र  लिख दें एवं मंत्र में  आमुख के स्थान पर  अपनी पत्नी का  या प्रेमिका का नाम लिखते हैं एवं इस समय आपको लगातार या मंत्र जपते रहना है इन मंत्रों का आप को सवा लाख बार जप करना है मन मंत्र जाप समाप्त होने पर भोजपत्र पर लिखा मंत्र  अभिमंत्रित हो जाएगा और उसका आप एक यंत्र बना लें एवं कामाख्या देवी  का  स्मरण करते हुए  अपनी मनोकामना सिद्धि के लिए  प्रार्थना करें  आपकी पत्नी  या प्रेमिका आपकी तरफ  आकर्षित  होना प्रारंभ कर देगी और कुछ ही समय में  वह आपके वश में होगी एवं आपकी इच्छाओं की पूर्ति करने लगेगी

भोजपत्र मंत्र-

ॐ नमः कामाख्यः देवी अमुकं मे वशंमः करी स्वाहः

भोजपत्र पति वशीकरण –

यदि पति पत्नी के बीच प्रेम में मधुरता कम हो गई है या आपके पति का किसी अन्य महिला के साथ कोई संबंध है तो आप अपने पति को मंत्रों के द्वारा अपने वश में कर सकते हैं तथा अपनी सौतन से पूर्ण रुप से छुटकारा पा सकती हैं इसके लिए आपको सुबह स्नान कर स्वच्छ होकर भोजपत्र में मंत्र लिखकर 108 बार जप करना चाहिए और मंत्र में अमुक के स्थान पर अपने पति का नाम लिखना चाहिए मंत्र को भोजपत्र में लिखने के लिए अपनी अनामिका उंगली के रक्त का प्रयोग करना चाहिए और उस भोजपत्र के टुकड़े को  मंत्र  समाप्ति के पश्चात किसी  शहद की शीशी में डुबोकर एकांत स्थान पर रख दें कुछ ही समय पश्चात आप पाएंगे  कि आपके पति के स्वभाव में परिवर्तन आया है और उनकी मनोवृति आपके लिए बदली है  धीरे-धीरे वह आपके वश में हो जाएंगे  एवं  अन्य स्त्री का मोह त्याग देंगे ।

मंत्र-

ॐ नमः अदि पुरुषायः अमुकं कुरु कुरु स्वाहः

टोटके –

भोजपत्र से शत्रु नाश –

यदि आपका शत्रु आपको परेशान कर रहा है एवं आपकी के कार्यों में बाधा पहुंचा रहा है तो उसको रोकने के लिए  सुबह स्नान कर स्वच्छ होकर आसन लगा कर बैठ जाए और एक भोजपत्र  के टुकड़े में  अपने शत्रु का नाम लाल चंदन से लिख दें और उस भोजपत्र के टुकड़े को शहद की शीशी में डुबोकर किसी एकांत स्थान पर रख दें कुछ ही समय में आपका शत्रु स्वयं ही समाप्त हो जाएगा या आपको परेशान करना बंद कर देगा ।

वरीयता प्राप्त करने हेतु-

यदि आप किसी के दिल में अपने लिए जगह बनाना चाहते हैं या ऑफिस में आप प्रमुख हो जाएं सब आपकी प्रशंसा करें ऐसा करना चाहते हैं बॉस आपकी तारीफ करें तथा आपकी तरक्की अति शीघ्र होने लगे और आप से सभी लोग प्रेम करने लगे आपका सम्मान करने लगे आपको सम्मानित नजरों से देखें इसके लिए आपको किसी दिन सुबह उठकर स्नान कर स्वच्छ होकर आसन लगा कर बैठ जाए और एक भोजपत्र का आयताकार टुकड़ा लेकर उस व्यक्ति का नाम या अपने बॉस का नाम लिख दें जिससे आप प्रेम सम्मान अनुराग पाना चाहते हो तथा मन-ही-मन भगवान कृष्ण को स्मरण करते रहें और और उस टुकड़े को किसी शहद की शीशी में डूबा कर रख दे तथा जब भी उस व्यक्ति की नजर आप पर पड़े या वह आपकी तरफ देखें तब उस शीशी को प्यार से अपने दाहिने हाथ से स्पर्श करें इस प्रयोग से  उस व्यक्ति के मन में आप के प्रति प्रेम भावना एवं सम्मान  बढ़ेगा  तथा वह धीरे-धीरे आपका मुरीद हो जाएगा और  आपको पसन्द करने लगेगा  यह  एक सफल प्रयोग है यह कभी विफल नहीं होता है ।

भोजपत्र यंत्र निर्माण –

विधि-

इस यंत्र के निर्माण के लिए भोजपत्र का एक वर्गाकार या आयताकार का टुकड़ा लेते हैं यह यंत्र  विशेष कर दो तरीके के होते हैं  एक समस्याओं के निदान के लिए और आपको  सुख सुविधा ऐश्वर्या विद्या शक्ति प्रदान करने के लिए शब्दों के कुछ मंत्र होते हैं और दूसरे प्रकार में  3 के गुण  में  9 या 4 के गुणक में बने होते हैं इसमें 12 छोटे-छोटे वर्गों में  अंक लिखे हुए होते हैं यह किस तरह लिखे होते हैं कि इनका जोड़  लंबवत क्षतिज विकरण रेखा पर  जोड़ने से समान अंक प्राप्त होता है

सर्व सुख निर्माण  यंत्र –

8     15    2     7

6     3     12    11

14    9     8     1

4     5     10    13

भोजपत्र यंत्र उपयोग –

१- यह यंत्र सुख से सुविधा  समृद्धि प्रदान करने वाला होता है  इस यंत्र से  आपको  आपके इच्छित कार्यों में तरक्की मिलती है  एवं आपकी सभी  इच्छाओं की पूर्ति स्वता ही हो जाती है ।

२- इस यंत्र से आपको कभी भी धन के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा तथा या यंत्र आपकी समस्त धन संबंधित समस्याओं को  समाप्त कर देता है ।

३- इस यंत्र का उपयोग करने वाले व्यक्ति के पास शत्रुओं का भय कभी नहीं रहता है तथा शत्रु यंत्र रखने वाले व्यक्ति का कभी अनभल नहीं कर सकता है।

४- इस यंत्र को रखने वाले व्यक्ति की हर इच्छाएं पूरी हो जाती हैं एवं उसके हर कार्यों में विजय होती है तथा कभी कोई भी बाधा उसके समक्ष नहीं उत्पन्न होती है|

 

[Total: 20    Average: 3.7/5]